Monday, October 22, 2018

काला बिछुआ या बघनखी

बघनखी या बाघनखी या बाघनख एक पौधा है जो बरसात में उगता है और सर्दी आते आते सूख जाता है. इसके फल सूख कर चटक जाते हैं और उनमे से एक काले या भूरे रंग का बड़ा सा बीज निकलता है. इस बीज की शकल बाघ के मुड़े हुए नाखूनों जैसी होती है. इसलिए इसे बघनखी या बाघनखी या बाघनख कहते हैं.
इसके पत्ते बड़े और रोएंदार होते हैं. कुछ लोग इसके पौधे को हाथाजोड़ी, हथजोड़ी का पौधा कहकर भ्रम फैला रहे हैं. हथजोड़ी के नाम से जो चीज़ बाजार में महंगे दामों बेची जा रही थी वह मॉनिटर लिज़र्ड का जननांग था और इस पर जब वैज्ञानिकों ने रिसर्च करके ये बताया कि  मॉनिटर लिज़र्ड इस हथजोड़ी के चक्कर में मारी जा रही है और जंगली जन्तुओं का नाश हो रहा है तो इसका बेचना बंद कर दिया गया. भ्रम फैलाने वाले कहते थे कि असली हथजोड़ी विंध्याचल के जंगलों में मिलती है. कोई इसे हिमालय में बताता था. कोई कहता था की पेड़ की जड़ है और कोई फल बताता था. हथजोड़ी के मामले में भ्रम फैलाने वालों की अब भी कमी नहीं है.
बघनखी के पौधे को अंग्रेजी भाषा में  डेविल्स क्ला (शैतानी पंजा) कहते है. इसका वैज्ञानिक नाम मार्टिनिया एनुआ  है. देसी भाषाओं में कहीं इसे उलट कांटा भी कहते हैं. इसके मुड़े हुए कांटो की वजह से इसे बिच्छू फल या काला बिछुआ भी कहते हैं. कुछ लोग इसके पौधे को बिच्छू झाडी समझते हैं. जबकि बिच्छू झाड़ी एक अलग ही पौधा है.
कुछ लोगों ने ये भ्रम भी पाल रखा है की ये पौधा वहीँ उगता है जहां बिच्छू रहते हैं. और ये बिच्छू काटे की अच्छी दवा है.
इसके कई नाम होने के कारण अन्य पौधों की नामों में भ्रम हो जाता है. ये पौधा ही ऐसा है.
ये पौधा सूजन और दर्द को दूर करता है. इसमें रक्त शोधक गुण हैं. सूजन और दर्द को दूर करने के गुणों के कारण  इसे गठिया रोग में इस्तेमाल किया जाता है. इसके पत्तों को सरसों के तेल में पकाकर ये तेल जोड़ो के दर्द में मालिश करने से बहुत आराम मिलता है. इसके सूखे फलों को कूटकर भी तेल में पका सकते हैं. ये एक अच्छा दर्द निवारक तेल बन जाता है.
इसके फलो का तेल बालों में लगाने से बाल जल्दी सफ़ेद नहीं होते.
इसकी जड़ का पाउडर एक से दो ग्राम की मात्रा में अश्वगंधा का पाउडर सामान मात्रा में मिलाकर शहद के साथ सुबह शाम इस्तेमाल करने से गठिया रोग में राहत मिलती है.
कुछ लोगों को इसके इस्तेमाल से एलर्जी हो जाती है. इसका प्रयोग करने से पहले किसी काबिल हकीम या वैद्य की सलाह अवश्य लें.


No comments:

Post a Comment